आयुर्वेद से शरीर को कैसे आरोग्य रखे जानिए हिंदी में

Spread the love

इस व्यस्त दुनिया में जहां बहुत से लोग काम काज के चकर में दिन भर भागदौड़ करते है और तनाव महसूस करते हैं.  ऐसी भागदौड़ भरी जिनगी और तनाव पूर्ण रहने से आपका सारीश बहोत सी बीमारों का शिकार हो जाता है. जिसे आप बहोत कम समय में आयुर्वेद से डिक कर सकते है. आयुर्वेद एक प्राचीन भारतीय उपचार प्रणाली है. आयुर्वेद हमें स्वस्थ जीवन की आशा देता है। आयुर्वेद हमारे शरीर, दिमाग और आत्मा को सामंजस्य में रखने पर केंद्रित है। इस ब्लॉग पोस्ट में, हम आपको स्वस्थ और जीवन से भरपूर महसूस करने में मदद करने के लिए कुछ सरल आयुर्वेदिक स्वास्थ्य सलाह के बारे में बतायंगे।

Contents hide

आयुर्वेद क्या है?  (what is Ayurveda in Hindi?)

आयुर्वेद चिकित्सा की एक प्राचीन प्रणाली है जिसकी उत्पत्ति हजारों साल पहले भारत में हुई थी। यह स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण है जो शरीर, मन और आत्मा के बीच संतुलन पर जोर देता है। आयुर्वेद इस विश्वास पर आधारित है कि प्रत्येक व्यक्ति की एक अनूठी संरचना होती है, जिसे उनके दोष के रूप में जाना जाता है, जो उनकी शारीरिक और मानसिक विशेषताओं को प्रभावित करता है। यह भलाई को बढ़ावा देने और बीमारी को रोकने के लिए हर्बल उपचार, आहार संबंधी दिशानिर्देश और जीवनशैली प्रथाओं सहित प्राकृतिक उपचारों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। आयुर्वेद स्वास्थ्य समस्याओं के मूल कारणों का समाधान करता है. आयुर्वेद उद्देश्य किसी व्यक्ति के जीवन में संतुलन और सद्भाव लाना है।

दोष क्या हैं और दोष के प्रकार क्या हैं? (what are dosha and types of dosha?)

दोष आयुर्वेद में एक मौलिक अवधारणा है, जो तीन प्राथमिक ऊर्जाओं या संविधानों का प्रतिनिधित्व करती है जो हर व्यक्ति और प्राकृतिक दुनिया में मौजूद हैं। ये दोष शरीर में विभिन्न शारीरिक और मनोवैज्ञानिक कार्यों को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार हैं। 

1. वात दोष: वात, वायु और आकाश (अंतरिक्ष) के तत्वों से जुड़ा है। इसकी विशेषता सूखापन, शीतलता, हल्कापन और गतिशीलता जैसे गुण हैं। जिन लोगों में वात दोष प्रबल होता है उनका शरीर दुबला-पतला होता है और उनकी सोच तेज होती है और संतुलन बिगड़ने पर चिंता, शुष्क त्वचा और पाचन संबंधी समस्याओं का खतरा हो सकता है।

2. पित्त दोष: पित्त अग्नि और जल के तत्वों से जुड़ा हुआ है। यह गर्मी, तीक्ष्णता, तीव्रता और परिवर्तन जैसे गुणों का प्रतीक है। जिन लोगों में पित्त दोष प्रबल होता है वे अक्सर मध्यम कद के होते हैं, उनका पाचन तंत्र मजबूत होता है और वे भावुक और दृढ़निश्चयी हो सकते हैं। असंतुलित होने पर, उन्हें एसिडिटी, चिड़चिड़ापन और त्वचा संबंधी समस्याएं जैसी समस्याओं का अनुभव हो सकता है।

3. कफ दोष: कफ पृथ्वी और जल के तत्वों से संबंधित है, जो भारीपन, शीतलता, स्थिरता और चिकनाई के गुणों के रूप में प्रकट होता है। प्रमुख कफ दोष वाले व्यक्तियों में आमतौर पर मजबूत शरीर, शांत स्वभाव और अच्छी सहनशक्ति होती है। जब कफ असंतुलित हो जाता है, तो वे वजन बढ़ने, सुस्ती और सांस संबंधी समस्याओं से जूझ सकते हैं।

वात दोष को नियंत्रित करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्के (Ayurvedic health tips for controlling Vata dosha In Hindi)

  1. गर्म भोजन: चावल, सब्जियां और सूप जैसे गर्म, पके हुए भोजन खाएं। ठंडे और कच्चे खाद्य पदार्थों से बचें।
  2. नियमित भोजन: दिन में एक ही समय पर तीन बार भोजन करें। भोजन न छोड़ें.
  3. गर्म पानी पियें: पूरे दिन गर्म या कमरे के तापमान का पानी पियें। यह पाचन के लिए अच्छा है.
  4. स्वस्थ वसा: अपने खाना पकाने में घी और तिल के तेल जैसे स्वस्थ वसा का उपयोग करें।
  5. अच्छी तरह चबाएं: अपने भोजन को धीरे-धीरे और अच्छी तरह चबाएं।
  6. गर्म रहें: ठंड के मौसम में परतों और कंबलों के साथ खुद को गर्म रखें।
  7. तेल मालिश: आराम के लिए गर्म तिल के तेल से स्वयं मालिश करने का प्रयास करें।
  8. हल्के व्यायाम: योग या पैदल चलने जैसे हल्के व्यायाम करें।
  9. दैनिक दिनचर्या: बेहतर संतुलन के लिए दैनिक कार्यक्रम पर टिके रहें।
  10. विश्राम: अपने मन को शांत करने के लिए गहरी सांस लेने या ध्यान का अभ्यास करें।
  11. कैफीन सीमित करें: कैफीन और शर्करा युक्त पेय पदार्थों का सेवन कम करें।
  12. हर्बल सहायता: किसी आयुर्वेदिक विशेषज्ञ की सलाह से अश्वगंधा और ब्राह्मी जैसी जड़ी-बूटियों पर विचार करें।

पित्त दोष को नियंत्रित करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्के (Ayurvedic health tips for controlling Pitta Dosha In Hindi)

  1. ठंडक देने वाले खाद्य पदार्थ: खीरा, खरबूजा और हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे ठंडक देने वाले खाद्य पदार्थ खाएं। मसालेदार और गर्म भोजन से बचें.
  2. नियमित भोजन: भोजन के नियमित समय का पालन करें और भोजन छोड़ने से बचें।
  3. पानी पियें: ठंडे या कमरे के तापमान वाले पानी से हाइड्रेटेड रहें। नारियल पानी और पुदीने की चाय पित्त को शांत करने में मदद कर सकती है।
  4. मध्यम व्यायाम: तैराकी, पैदल चलना या योग जैसे मध्यम व्यायाम में संलग्न रहें। गर्मी में तीव्र वर्कआउट से बचें।
  5. ठंडक देने वाली जड़ी-बूटियाँ: अपने खाना पकाने में धनिया, सौंफ़ और पुदीना जैसी जड़ी-बूटियों का उपयोग करें।
  6. गर्मी से बचें: सीधी धूप और उच्च तापमान वाले वातावरण से दूर रहें।
  7. शांत वातावरण: एक शांत और शांतिपूर्ण रहने की जगह बनाएं। शांत वातावरण से पित्त को लाभ होता है।
  8. ध्यानपूर्वक भोजन करें: पाचन में सहायता के लिए धीरे-धीरे और ध्यानपूर्वक भोजन करें।
  9. तनाव में कमी: तनाव को प्रबंधित करने के लिए गहरी सांस लेने या ध्यान जैसी विश्राम तकनीकों का अभ्यास करें।
  10. मसाले सीमित करें: मसालेदार और अत्यधिक नमकीन भोजन कम करें।
  11. हर्बल सहायता: किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक के मार्गदर्शन से ब्राह्मी या शतावरी जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों पर विचार करें।

कफ दोष को नियंत्रित करने के लिए कुछ आयुर्वेदिक नुस्के (Ayurvedic health tips for controlling Kapha Dosha In Hindi)

  1. गर्म और मसालेदार भोजन: गर्म, मसालेदार और हल्के भोजन को प्राथमिकता दें। अपने भोजन में अदरक, लहसुन और काली मिर्च जैसे मसाले शामिल करें।
  2. नियमित व्यायाम: कफ की सुस्ती की प्रवृत्ति का मुकाबला करने में मदद करने के लिए तेज चलना, जॉगिंग या नृत्य जैसे नियमित, स्फूर्तिदायक व्यायाम में संलग्न रहें।
  3. सक्रिय रहें: लंबे समय तक बैठने से बचें। घूमें-फिरें और पूरे दिन सक्रिय रहें।
  4. गर्म पेय: पाचन को उत्तेजित करने के लिए अदरक की चाय या नींबू के साथ गर्म पानी जैसे गर्म पेय का विकल्प चुनें।
  5. हल्का आहार: अपनी खुराक मध्यम रखें और भारी, तैलीय और अत्यधिक मीठे खाद्य पदार्थों से बचें।
  6. माइंडफुल ईटिंग: भूख के संकेतों पर ध्यान देते हुए, माइंडफुल ईटिंग से बचें और इमोशनल ईटिंग से बचें।
  7. डेयरी के साथ सतर्कता: डेयरी उत्पादों को सीमित करें, क्योंकि वे कफ बढ़ा सकते हैं। मलाई रहित दूध या बादाम दूध जैसे हल्के डेयरी विकल्प चुनें।
  8. आहार में विविधता: एकरसता को रोकने के लिए अपने आहार में विभिन्न प्रकार के फलों और सब्जियों को शामिल करें।
  9. हर्बल सहायता: पाचन में सहायता और कफ को संतुलित करने के लिए त्रिकटु (काली मिर्च, पिप्पली और अदरक का मिश्रण) जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों पर विचार करें।
  10. गर्मी और सूखापन: अपने रहने की जगह को गर्म और सूखा रखें। नमी और अधिक नमी से बचें.
  11. तनाव प्रबंधन: कफ से जुड़ी भावनात्मक प्रवृत्तियों को प्रबंधित करने के लिए योग, ध्यान या गहरी सांस लेने जैसी तनाव कम करने वाली तकनीकों का अभ्यास करें।

Also Read – जानिए स्मॉग मानव स्वास्थ्य के लिए किस प्रकार खतरनाक है?

सूर्य नमस्कार कैसे हमे इन दोषो से मुक्ति मिला सकता है

सूर्य नमस्कार, या सूर्य नमस्कार, योग मुद्राओं की एक श्रृंखला है जो कई शारीरिक और मानसिक लाभ प्रदान करती है।

1. वात दोष: सूर्य नमस्कार वार्मिंग और ग्राउंडिंग अभ्यास प्रदान करके वात दोष को संतुलित करने में मदद करता है। बहती गति और नियंत्रित सांस वात की बेचैन ऊर्जा को शांत करता  है और स्थिरता को बढ़ावा देता है।

2. पित्त दोष: नियंत्रित सांस और हल्के खिंचाव पर जोर देने के कारण सूर्य नमस्कार पित्त दोष को ठंडा और शांत करने में मदद कर सकता है। यह मानसिक स्पष्टता और विश्राम को भी बढ़ावा देता है, जिससे पित्त प्रवृत्ति वाले लोगों को लाभ हो सकता है।

3. कफ दोष: सूर्य नमस्कार की गतिशील प्रकृति कफ दोष को सक्रिय और ऊर्जावान बनाने में मदद करती है, जिससे सुस्ती और ठहराव की प्रवृत्ति का प्रतिकार होता है। नियमित अभ्यास बढ़े हुए परिसंचरण और जीवन शक्ति को बढ़ावा देता है।

Step by Steps Surya Namaskar 

सूर्य नमस्कार करने की विधि (Steps to Perform Surya Namaskar In Hindi)

1. प्रार्थना मुद्रा (प्रणामासन): अपनी चटाई के सामने अपनी हथेलियों को एक साथ मिलाकर प्रार्थना की स्थिति में खड़े हो जाएं, और एक पल के लिए खुद को केन्द्रित करें।

2. उठी हुई भुजाओं की मुद्रा (हस्त उत्तानासन): श्वास लें और अपनी भुजाओं को थोड़ा पीछे की ओर झुकाते हुए ऊपर उठाएं।

3. आगे की ओर झुकने की मुद्रा (हस्त पादासन): सांस छोड़ते हुए कूल्हों के बल आगे की ओर झुकें, अपने हाथों को अपने पैरों के पास फर्श पर लाएं।

4. लूंज पोज़ (अश्व संचलानासन): श्वास लें, अपना दाहिना पैर पीछे ले जाएं और अपना दाहिना घुटना ज़मीन पर टिकाएं। अपनी पीठ झुकाएँ और ऊपर देखें।

5. प्लैंक पोज़ (दंडासन): अपने बाएँ पैर को पीछे ले जाते हुए, प्लैंक स्थिति में आते हुए साँस छोड़ें।

6. आठ अंगों वाली मुद्रा (अष्टांग नमस्कार): अपने कूल्हों को ऊपर रखते हुए अपने घुटनों, छाती और ठुड्डी को फर्श पर टिकाएं। यह लो पुश-अप पोजीशन के समान है।

7. कोबरा पोज़ (भुजंगासन): सांस लेते हुए आगे बढ़ें, अपनी बाहों को सीधा करें और अपनी पीठ को कोबरा पोज़ में झुकाएं।

8. अधोमुख श्वानासन (अधो मुख संवासन): सांस छोड़ते हुए नीचे की ओर झुकें, अपने कूल्हों को ऊपर उठाएं और अपनी एड़ियों को फर्श की ओर दबाएं।

9. लूंज पोज़ (अश्व संचलानासन): श्वास लें, अपने दाहिने पैर को अपने हाथों के बीच में लाये और ऊपर देखें।

10. फॉरवर्ड बेंड पोज़ (हस्त पादासन): सांस छोड़ें और अपने बाएं पैर को दाईं ओर के बगल में आगे लाएं, कूल्हों पर झुकें।

11. उठी हुई भुजा मुद्रा (हस्त उत्तानासन): श्वास लें और थोड़ा ऊपर की ओर झुकते हुए वापस ऊपर उठें।

12. प्रार्थना मुद्रा (प्रणामासन): सांस छोड़ें और एक चक्र पूरा करने के लिए प्रार्थना मुद्रा में लौट आएं।

आयुर्वेद के साथ अपना दैनिक दिन कैसे करे (Day-To-Day Ayurvedic Health Schedule In Hindi)

प्रातःकालीन दिनचर्या (ब्रह्म मुहूर्त – सूर्योदय से पहले)

1. जल्दी उठें: सूरज के साथ उठें, आदर्श रूप से भोर से पहले के घंटों के दौरान, जब दुनिया शांत और शांतिपूर्ण होती है।

2. मौखिक देखभाल: अपने दिन की शुरुआत मौखिक स्वच्छता से करें।

3. जलयोजन: अपने शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करने के लिए एक गिलास गर्म पानी पियें।

4. सुबह का ध्यान: अपने दिमाग को शांत करने और दिन के लिए सकारात्मक स्वर निर्धारित करने के लिए ध्यान या गहरी सांस लेके 10-15 मिनट तक व्यायाम करे.

नाश्ता

6. संतुलित नाश्ता: गर्म, पके हुए भोजन के साथ संतुलित भोजन करें। अनाज, फल और स्वस्थ वसा शामिल करें।

सुबह के दौरान

7. जलयोजन: हर्बल चाय, गर्म पानी, या अदरक या तुलसी चाय जैसे अर्क पीकर हाइड्रेटेड रहें।

दिन का खाना

8. मुख्य भोजन: दोपहर के समय अपने मुख्य भोजन का आनंद लें जब आपकी पाचन अग्नि (अग्नि) मजबूत हो। विभिन्न प्रकार की पकी हुई सब्जियाँ, अनाज और कम वसा वाले प्रोटीन स्रोत शामिल करें।

दोपहर

9. हल्का नाश्ता: यदि आपको दोपहर में भूख लगती है, तो फल या मेवे जैसे हल्के, पौष्टिक नाश्ते का विकल्प चुनें।

शाम की दिनचर्या (सूर्यास्त से पहले)

10. रात का खाना: रात के खाने को दोपहर के भोजन की तुलना में हल्का रखें, जिसमें सूप, उबली हुई सब्जियां और साबुत अनाज जैसे आसानी से पचने योग्य खाद्य पदार्थ शामिल हों। सोने से कम से कम दो घंटे पहले भोजन करें।

11. आराम: अपनी शाम शांत और शांतिपूर्ण तरीके से बिताएं। तीव्र या उत्तेजक गतिविधियों से बचें।

12. हर्बल चाय: पाचन में सहायता और विश्राम को बढ़ावा देने के लिए कैमोमाइल या पेपरमिंट जैसी हर्बल चाय का सेवन करें।

सोने से पहले

13. स्क्रीन-मुक्त समय: रात की आरामदायक नींद सुनिश्चित करने के लिए सोने से कम से कम एक घंटे पहले स्क्रीन (फोन, कंप्यूटर, टीवी) से बचें।

14. स्व-मालिश (अभ्यंग): यदि चाहें, तो अपने शरीर को आराम और पोषण देने के लिए गर्म तेल से हल्की मालिश करें।

15. गुणवत्तापूर्ण नींद: 7-8 घंटे की गुणवत्तापूर्ण नींद का लक्ष्य रखें।

आमतौर पर उपयोग की जाने वाली कुछ आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों और उनके लाभ  (some commonly used Ayurvedic herbs and their Benefits In Hindi)

1. हल्दी (करकुमा लोंगा): सूजनरोधी, एंटीऑक्सीडेंट, पाचन में सहायता करती है और जोड़ों के स्वास्थ्य में मदद कर सकती है।

2. अश्वगंधा (विथानिया सोम्निफेरा): एडाप्टोजेनिक, तनाव को प्रबंधित करने में मदद करता है, ऊर्जा का समर्थन करता है और मानसिक स्पष्टता को बढ़ावा देता है।

3. त्रिफला : यह तीन फलों (अमलाकी, बिभीतकी, हरीतकी) को मिलाकर बनता जो की पाचन में सहायता करता है और नियमित मल त्याग को बनाए रखने में मदद करता है।

4. नीम (अज़ादिराक्टा इंडिका): जीवाणुरोधी, एंटिफंगल और सूजन-रोधी, त्वचा के स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा समर्थन के लिए फायदेमंद।

5. तुलसी (पवित्र तुलसी): एडाप्टोजेनिक, तनाव को कम करने में मदद करता है, प्रतिरक्षा प्रणाली का समर्थन करता है और इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

6. ब्राह्मी (बाकोपा मोनिएरी): संज्ञानात्मक कार्य, स्मृति और एकाग्रता को बढ़ाता है। इसे अक्सर मस्तिष्क टॉनिक के रूप में प्रयोग किया जाता है।

7. अदरक (ज़िंगिबर ऑफ़िसिनेल): पाचन में सहायता करता है, सूजन को कम करता है, और मतली और सर्दी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

8. दालचीनी (सिनामोमम वेरम): पाचन में सहायता करती है, रक्त शर्करा को नियंत्रित करती है और इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

9. इलायची (एलेटेरिया इलायची): पाचन में मदद करती है, सांसों को ताज़ा करती है और इसमें एंटीऑक्सीडेंट और सूजन-रोधी गुण होते हैं।

10. आंवला (भारतीय करौंदा): विटामिन सी से भरपूर, प्रतिरक्षा समारोह, त्वचा के स्वास्थ्य और बालों के विकास में सहायता करता है।

11. लिकोरिस (ग्लाइसीराइजा ग्लबरा): गले और श्वसन प्रणाली को आराम देता है, अधिवृक्क स्वास्थ्य का समर्थन करता है, और पाचन में सहायता करता है।

12. गुग्गुल (कॉमिफ़ोरा वाइटी): स्वस्थ कोलेस्ट्रॉल स्तर का समर्थन करता है, वजन प्रबंधन में सहायता करता है, और इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं।

13. शतावरी (शतावरी रेसमोसस): महिला प्रजनन स्वास्थ्य का समर्थन करती है, हार्मोन को संतुलित करती है और पाचन में सहायता करती है।

14. हरीतकी (टर्मिनलिया चेबुला): पाचन में सहायता करती है, विषहरण का समर्थन करती है, और वजन प्रबंधन में मदद कर सकती है।

15. भृंगराज (एक्लिप्टा अल्बा): बालों के विकास को बढ़ावा देता है, बालों को मजबूत बनाता है, और बालों की देखभाल के फॉर्मूलेशन में उपयोग किया जाता है।

16. मुलेठी (लिकोरिस रूट): पाचन तंत्र को आराम देती है, श्वसन स्वास्थ्य का समर्थन करती है, और त्वचा संबंधी समस्याओं में मदद कर सकती है।

17. अर्जुन (टर्मिनलिया अर्जुन): हृदय स्वास्थ्य का समर्थन करता है, रक्तचाप को प्रबंधित करने में मदद करता है, और इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

18. पिप्पली (लंबी मिर्च): पाचन में सहायता करती है, चयापचय को बढ़ाती है और श्वसन स्वास्थ्य में सहायता करती है।

19. बिलबेरी (वैक्सीनियम मायर्टिलस): आंखों के स्वास्थ्य में सहायता करता है, दृष्टि में सुधार करता है और इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।

20. मेथी (ट्राइगोनेला फोनम-ग्रेकम): पाचन में सहायता करती है, रक्त शर्करा को नियंत्रित करती है, और स्तनपान कराने वाली माताओं में स्तनपान में मदद कर सकती है।


Spread the love

3 thoughts on “आयुर्वेद से शरीर को कैसे आरोग्य रखे जानिए हिंदी में”

Leave a Comment